चुनाव आयोग का पहला ओपिनियन

सरकार बनाना तो दूर की बात, 2024 में राजघनवार ही बचा लें बाबूलाल

Ranchi– राजभवन को चुनाव आयोग का पहला ओपिनियन बताना चाहिए-पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के सरकार बनाने वाले बयान पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है कि बाबूलाल पहले भी सरकार बदलने की बात करते रहे हैं, यह कोई नया राग नहीं है, अब यह राग पुरानी हो चुकी है, बाबूलाल की साजिश केन्द्रीय एंजसियों का दुरुपयोग कर सरकार बनाने की है, यही कारण है कि अब केन्द्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर विधायकों को डराने धमकाने की कोशिश की जा रही है, केन्द्रीय एजेंसियों की कोशिश महाराष्ट्र तरह यहां भी सरकार बनवाने की है. लकिन सरकार का बहुमत सदन के अंदर तय होता है.

राजभवन को चुनाव आयोग का पहला ओपिनियन सार्वजनिक करना चाहिए

जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि हमें किसी प्रकार की जांच से कोई डर नहीं है, लेकिन सारी जांच प्रक्रिया के तहत होनी चाहिए. जहां तक राजभवन की बात हो राजभवन यह बताना चाहिए की चुनाव आयोग का पहला ओपिनियन क्या था,

भाजपा ने ओबीसी आरक्षण को 27 से 14 पर लाया

ओबीसी आरक्षण की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि यह भाजपा ही है,

जिसके शासनकाल में ओबीसी आरक्षण को 27 फीसदी से 14 फीसदी किया गया था,

उस समय यही बाबूलाल मुख्यमंत्री थें.

हेमंत सरकार ओबीसी को उनका अधिकार देने जा रही है.

भाजपा की साजिश के खिलाफ पूरे राज्य में आन्दोलन की शुरुआत हो चुकी है.

जरूरत पड़ी तो रेल की पटरी, नेशनल हाईवे और हवाई अड्डों पर घरना दिया जायेगा.

भागलपुर को मिलने वाली है वंदे मातरम और राजधानी की सौगात

Similar Posts