गिरिडीह पुलिस ने साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार, साइबर क्राइम से बनाई करोड़ों की संपत्ति

साइबर अपराधी

गिरिडीह. गिरिडीह पुलिस साइबर अपराधियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है। पुलिस ने एक बार फिर एक साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि एसपी दीपक कुमार शर्मा को गुप्त सूचना प्राप्त हुई कि गिरिडीह के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के गपैय में एक साइबर अपराधी आम लोगों से ठगी कर रहा है।

गिरिडीह में साइबर अपराधी गिरफ्तार

इसी सूचना के बाद साइबर डीएसपी आबिद खान के नेतृत्व में छापेमारी टीम गठित की गई। इस टीम में पुलिस निरीक्षक सह साइबर थाना प्रभारी अजय कुमार, पुलिस अवर निरीक्षक पुनित कुमार गौतम, गुंजन कुमार, सहायक अवर निरीक्षक संजय मुखियार, आरक्षी जितेन्द्र नाथ महतो को शामिल किया गया। वहीं इनके सहयोग से छापेमारी करते हुए 1 साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार साइबर अपराधी में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के गपैय का रहने वाला 24 वर्षीय सोनू कुमार वर्मा है।

गिरफ्तार अभियुक्त ने अपने स्वीकारोक्ति बयान में बताया कि ये स्डूको ऐप के माध्यम से लड़की से न्यूड वीडियो कॉलिंग करवाने एवं लड़की उपलब्ध कराने का झांसा देकर लिंक भेजकर पैसा ठगी करना, गूगल पर फोन पे एवं गूगल पे का कस्टमर केयर के हेल्पलाइन नम्बर पर कॉल करने वाले लोगों से ठगी करना, कैश बैक देने के नाम पर लिंक बनाकर अन्य साइबर अपराधियों को देना और फर्जी सिम एवं खाता उपलब्ध कराना जैसे साइबर अपराध करता था।

बता दें कि गिरफ्तार साइबर अपराधी सोनू का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है और वह वर्ली मुंबई के साइबर केस में जेल जा चुका है। वहीं इसके अलावा इस अपराधी का गिरिडीह के नगर और मुफस्सिल थाना में भी मामले दर्ज हैं और पहले से गिरफ्तार महेंद्र मंडल नामक साइबर अपराधी भी अपने स्वीकारोक्ति बयान में इसका नाम लिया है।

पुलिस ने गिरफ्तार इस अपराधी के पास से 1 मोबाइल और 1 सिम कार्ड बरामद किया है। गिरफ्तार साइबर अपराधी सोनू कुमार वर्मा ने साइबर अपराध से कई चल-अचल संपत्ति बना रखी है और इसके पास एक एमजी हेक्टर का चार चक्का वाहन, एक 16 चक्का ट्रक, एक बाइक, एक इलेक्ट्रिक स्कूटी, झारखंड के हजारीबाग में एक फ्लैट, बेंगाबाद के साठीबाद एवं महुआर में 2 करोड़ का एक-एक एकड़ जमीन अपने परिजनों के नाम पर लिया है।

एसपी ने बताया कि साइबर अपराध से करोड़ों की संपत्ति अर्जित करने वाले इस अपराधी के खिलाफ संपत्ति की जांच के लिए संबंधित विभाग को भी लिखेंगे। बता दें कि बीते 10 महीने में लगभग 248 साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

गिरिडीह से नमन नवनीत की रिपोर्ट

Share with family and friends: