30.1 C
Jharkhand
Wednesday, May 22, 2024

Live TV

Hazaribagh में 200 छात्र होटल में बंद, अब आगे क्या…..

Hazaribagh- हजारीबाग एक बार फिर सुर्खियों में है। मामला पेलावल थाना अंतर्गत बताया जा रहा है जहां कोहिनूर होटल में लगभग 200 से अधिक विद्यार्थियों को होटल में प्रशासन ने रोक रखा है। बताया जाता है कि ये सभी छात्र बिहार में आयोजित परीक्षा में हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे, तभी हजारीबाग पुलिस को इस बात की भनक लगी है।

Hazaribagh : छात्रों से गोपनीय जगह में पूछताछ की जा रही है

प्रशासन ने दो गाड़ियों में विद्यार्थियों को रोका है। कुछ गाड़ी को नगवां टोल प्लाजा के पास रोका गया है, पुलिस उनसे गोपनीय जगह में पूछताछ की जारी है। आशंका जताया जा रहा है कि बिहार में शुक्रवार को हो रहे TRE परीक्षा से जुड़े लोग हैं। इस लोगों के पास से एडमिट कार्ड और अन्य कई दस्तावेज बरामद हुए हैं।

किसी भी परीक्षार्थियों के पास उनका मोबाइल नहीं है

सबसे अहम बात यह है कि इनमें से किसी भी परीक्षार्थियों के पास उनका मोबाइल नहीं है। छात्रों से सदर एसडीपीओ पूछताछ भी कर रहे हैं। इस मामले में कोई भी प्रशासनिक अधिकारी कुछ भी कहने को तैयार नहीं है। मामला काफी संवेदनशील बताया जा रहा है, इस कारण भी पदाधिकारी कहने से बच रहे हैं।

जानकारी के अनुसार जो इनपुट्स मिले हैं उसके आधार पर यह कहा जा सकता है कि पूरा मामला B.sc TRE परीक्षा से जुड़ा हुआ है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से अतिरिक्त बल भी तैनात किया गया है, ब्रज वाहन भी होटल के बाहर खड़ी है। किसी भी व्यक्ति को होटल में जाने की इजाजत भी नहीं दी जा रही है।

Kohinoor Banquet Hall
Kohinoor Banquet Hall , Hazaribagh

Added : 4 PM March 15, 2024

मामला बिहार से जुड़ा हुआ है बिहार से आई टीम कर रही है जांच – Hazaribagh एसपी अरविंद कुमार सिंह

Hazaribagh के पेलावल रोमी में चल रहे बीपएससी पेपर लीक मामले में Hazaribagh एसपी अरविंद कुमार सिंह ने न्यूज़ 22 को दिए बयान में कहा है कि पूरा मामला बीएससी पेपर लीक से जुड़ा हुआ है तथा इस मामले में बिहार से आई टीम जांच कर रही है आपको बता दो हजारीबाग पुलिस आज ले सुबह से ही Hazaribagh के कोहिनूर होटल में बीपीएससी शिक्षक बहाली परीक्षा पेपर लीक मामले में कार्रवाई कर रही है और अब इस मामले में बिहार से प्रीति में यहां पहुंच गई है जिसमें डीएसपी तथा इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी मौजूद है

Added 2.30 PM March 16, 2024

BPSC TRE3 का प्रश्न पत्र लीक 300 छात्रों को लिया गया हिरासत में ,पांच मास्टरमाइंड भी गिरफ्तार

Hazaribagh : बीपीएससी की ओर से आयोजित शिक्षक पात्रता परीक्षा तीन का प्रश्न पत्र लीक होने का मामला प्रकाश में है. बिहार से आई आर्थिक अपराध इकाई पटना की टीम ने इसकी पुष्टि कर दी है.

शुक्रवार को बिहार में परीक्षा संपन्न हुई है. इसी शिक्षक पात्रता परीक्षा का प्रश्न पत्र Hazaribagh में लीक हो गया. सभी प्रश्न जो हजारीबाग से बरामद किए गए थे उसका मिलान हो गया है.

अब तक के इतिहास में यह सबसे बड़ा परीक्षा प्रश्न पत्र लिक मामले में उपलब्धि बताई जा रही है. जिसमें 300 से अधिक छात्रों को पुलिस ने डिटेन किया है.

सभी छात्र बिहार के अलग-अलग जिलों से Hazaribagh पहुंचे थे. अधिकतर छात्रों का सेंटर बिहार शरीफ, बेगूसराय, पटना, नवादा और गया बताया जा रहा है.

छात्रों को पहले हजारीबाग लाया गया और प्रश्न पत्र देकर याद करवाया गया.  पिछले दो दिनों से यह सिलसिला यहां चल रहा था. पेलावल स्थित कोहिनूर बैंक्विट हॉल में छात्रों को रखा गया था.

सभी छात्रों को परीक्षा के दिन सुबह 3:00 बजे विभिन्न सेंटरों में ले जाया जा रहा था. तभी पुलिस को यह जानकारी मिली और बड़ा ऑपरेशन चलाया गया. जिसमें यह सफलता हाथ लगी है.

बरही से 90 Hazaribagh, पेलावल से 70, पदमा से 80 कोर्रा से 15 और कटकमसांडी से 15 अभ्यर्थियों को हीरासत में लिया गया है. पात्रता परीक्षा

वहीं पांच मास्टरमाइंड भी गिरफ्तार हुए हैं. जिनके पास से प्रश्न पत्र, कंप्यूटर, लैपटॉप, प्रिंटर, पेन ड्राइव बरामद किया गया है. यही पांच मास्टरमाइंड छात्रों को प्रश्न पत्र उपलब्ध कराए थे.

पदाधिकारी ने ऑफ कैमरा जानकारी देते हुए बताया कि एक छात्रा से 8 से 15 लाख रुपया लिया गया था .जिसमें छात्रों से दो से तीन लाख एडवांस के रूप में लिया गया और उनका सर्टिफिकेटभी रख दिया गया. क्वेश्चन मैच करने के बाद पैसा देने की बात कही गई थी.

तब सर्टिफिकेट अभ्यर्थियों को वापस किया जाता. कहा जाए तो 50 करोड़ रुपया का लेनदेन इस प्रश्न पत्र लिक मामले में होने के आसार बताई जा रहे हैं.

बीपीएससी शिक्षक पात्रता परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक

पदाधिकारी ने यह भी जानकारी देते हुए कहा कि गुरुवार को ही आर्थिक अपराध इकाई पटना को जानकारी मिली थी कि Hazaribagh में प्रश्न पत्र लिक हुआ है.
इसको लेकर कुछ अभ्यार्थियों को गिरफ्तार भी किया गया था. टीम वापस लौट गई. वापस लौट के क्रम में ही गया के पास यह पता चला कि कई इलाकों में छात्र पहुंचे हुए हैं. फिर से दूसरी टीम हजारीबाग आई . शुक्रवार को फिर से ऑपरेशन चलाया गया.

जिसमें लगभग 500 छात्रों के आने की बात कही जा रही है. आधे से अधिक छात्र समय और अंधेरा का लाभ उठाते हुए भागने में सफल भी हुए हैं. वही 250 छात्रों को पुलिस ने हिरासत में लिया है.

आर्थिक अपराध इकाई की टीम में हजारीबाग पुलिस की इसमें मदद ली है. Hazaribagh पुलिस ने छात्रों को विभिन्न इलाकों में पकड़ा है. हजारीबाग नगवां टोल प्लाजा, नगवां टोल प्लाजा और इसके अलावा होटल से छात्रों की धड़पकड़ हुई है.

पकड़े गए छात्रों को पटना ले जाया जा रहा है जहां वेरीफाई कराया जाएगा. उनका आधार कार्ड एडमिट कार्ड से मिलन की जाएगी. जिन छात्रों की मिलन हो जाएगी उसे पर कार्रवाई की जाएगी .यह कार्रवाई विभाग करेगी. इस मामले में अभी भी पटना और उसकी आसपास की इलाकों में छापेमारी की जा रही है .कहा जा रहा है कि एक बड़ा रैकेट का खुलासा होने वाला है.

दरअसल छात्रों को Hazaribagh लाया गया और फिर विभिन्न एग्जामिनेशन सेंटर पर अभ्यर्थियों को पहुंचना भी था. कहा जाता है कि जो गाड़ी तय किया गया था वह समय पर नहीं पहुंचा.

ऐसे में Hazaribagh के पम्मी बस संचालक से संपर्क स्थापित किया गया. उन्हें अलग-अलग सेंटर ले जाने को कहा गया .जिसमें बिहार शरीफ, नवादा, बेगूसराय शामिल है. पात्रता परीक्षा

इस एवरेज में ₹10000 एडवांस भी बस संचालक को दिया गया. बस संचालक ने सुबह के 3:30 बजे अभ्यर्थियों को पहुंचाने के लिए निकली.

इसी बीच संचालक को पुलिस ने जानकारी दिया कि यह पूरा मामला संदिग्ध है .ऐसे में नजदीकी पुलिस स्टेशन पर ही गाड़ी रोक दिया जाए. पात्रता परीक्षा

बस संचालक ने एक गाड़ी को कटकमसांडी, दूसरे को पदमा, तीसरे को कोर्रा थाना में रोका .तो दूसरी ओर पुलिस की टीम ने कोहिनूर बैंक्विट हॉल में अभ्यर्थियों को रोकने में सफल हुई है.

रात के 12:00 बजे के आसपास अभ्यार्थियों को कड़ी सुरक्षा के बीच पटना ले जाया गया. जहां वरीय पदाधिकारी उनसे पूछताछ करेंगे.

इस पूरे ऑपरेशन में बिहार के एक वरीय पदाधिकारी का नेम लेट लगा हुआ गाड़ी भी जप्त किया गया है. उस गाड़ी के बारे में बैंक्विट हॉल संचालक ने बताया कि भाड़े की गाड़ी है. पात्रता परीक्षा

भाड़े के समय वह प्लेट लगाया गया था, जिसे हटाया नहीं गया है. आर्थिक अपराध की टीम गाड़ी को जप्त कर पटना ले जा रही है. ताकि इस मामले का भी उद्वेदन हो सके.

बीपीएससी शिक्षक पात्रता परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक : 

इस पूरे कार्रवाई में लगभग 12 घंटे से अधिक का समय लगा है. इस दौरान पूरे इलाके में अपरा तफरी का माहौल भी रहा . सुर्खियों में रही कि बिहार में आयोजित परीक्षा का पश्न पत्र हजारीबाग में बरामद हुआ है.

जब यह परीक्षा बिहार में चल रही थी उसे वक्त यह प्रश्न पत्र प्रशासनिक पदाधिकारी के पास छात्रों से बरामद किया गया. इस पुरे मामले में पांच संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है.

जो नालंदा और पटना के बताए जा रहे हैं. जिसमें एक ड्राइवर भी शामिल है. उन सभी से विभाग पूछताछ करेगी. इस पूरे घटनाक्रम पर बिहार सरकार की भी नजर थी तो दूसरी ओर हजारीबाग के पुलिस पदाधिकारी समय-समय पर बैंक्विट हॉल पहुंचाते रहे. होटल की आवाज से पूरा क्षेत्र गूंजता रहा. अतिरिक्त सुरक्षा बल भी इस दौरान तैनात किए गए थे. ताकि स्थिति को नियंत्रित रखी जा सके. पात्रता परीक्षा

जैसे ही यह बात सामने आयी बिहार से भी कुछ अभिभावक घटनास्थल पर पहुंचे.लेकिन पुलिस की दबीश के कारण उन्होंने अपना जुबान नहीं खोला और चुपचाप घटना देखते रहे.

इस पूरे मामले में हजारीबाग एसपी अरविंद कुमार सिंह ने भी अपना बयान दिया था और कहा था कि यह पूरा मामला बिहार से जुड़ा हुआ है तथा बिहार में हुए क्वेश्चन पेपर लीक मामले से जुड़ा हुआ है. पात्रता परीक्षा

Added : 8 PM March 16, 2024

Hazaribagh में 250 छात्र क्यों है हिरासत में……

Hazaribaghहजारीबाग में BPSC परीक्षा का पेपर लीक का मामला सामने आया है। पुलिस ने इस मामले में 5 मास्टरमाइंड को गिरफ्तार किया है तथा उनके यहां से एडमिट कार्ड, प्रश्न पत्र, कंप्यूटर, लैपटॉप, प्रिंटर, पेन ड्राइव बरामद किया गया है। वहीं 250 से अधिक छात्रों को पुलिस ने डिटेन किया है।

इस मामले की पुष्टि पटना से आई आर्थिक अपराध इकाई (Economic Offenses Unit) ने भी कर दी है कि पेपर लीक हुआ है।

बैंक्वेट हॉल में छात्रों से प्रश्न पत्र रटवाया जा रहा था 

मालूम हो कि कल बिहार में BPSC शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन हो रहा था। हजारीबाग के कई बैंक्वेट हॉल में छात्रों को बंद करके उनसे प्रश्न पत्र रटवाया जा रहा था। उसके लिए छात्रों से उनका मोबाईल रख लिया गया था। सूत्रों के मुताबिक पेपर लीक पर एक-एक छात्र से 2-3 लाख रुपए तक लिए गए थे।

जानकारी के मुताबिक अब तक के इतिहास में यह सबसे बड़ा परीक्षा प्रश्न पत्र लीक मामले में उपलब्धि बताई जा रही है। इस मामले में लगभग 250 से अधिक छात्रों को पुलिस ने डिटेन किया है। सभी छात्र बिहार के अलग-अलग जिले से Hazaribagh पहुंचे थे।

Updated : 11 AM, March 17, 2024

BPSC पेपर लीक मामले में अभ्यर्थी हुए सिविल कोर्ट में पेश, वहीं चोरी मामले में पटना पुलिस का खुलासा

Updated: 4 PM March 17,2024

BPSC TRE 3 पेपर लीक कांड: EOU ने एसआईटी का किया गठन

पटना : BPSC TRE 3 पेपर लीक कांड की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई (EOU) ने एसआईटी का गठन किया है। साइबर सेल के एसपी वैभव शर्मा के नेतृत्व में 8 सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया है।

BPSC TRE 3 पेपर लीक कांड

पूरे मामले की साइंटिफिक तरीके से जांच की जा रही है। वहीं एडीजी ईओयू और ईओयू डीआईजी एसआईटी के कार्यों की मॉनिटरिंग

Updated 4.25 PM March 17,2024

Updated : 11.15 AM March 18, 2024

बीपीएससी परीक्षा पेपर लीक मामले में राजनीति तेज, तेजस्वी ने कहा ‘माफिया राज’ तो सम्राट चौधरी ने कहा…

पटना: बीपीएससी द्वारा आयोजित शिक्षक भर्ती परीक्षा टीआरई 3 के पेपर लीक मामले में अब बिहार में राजनीति गर्म होने लगी है। एक तरफ जहां बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने एनडीए सरकार पर माफियाओं को संरक्षण देने का आरोप लगाया है तो दूसरी तरफ बिहार के उप मुख्यमंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि कथित पेपर लीक की जांच की आर्थिक अपराध इकाई कर रही है दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा। सम्राट चौधरी ने कहा कि यह राजग की सरकार है राजद की नहीं।

विदित हो कि बिहार कि पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने बीपीएससी टीआरई 3 परीक्षा पेपर लीक मामले में सरकार पर बड़ा हमला बोला और कहा कि हमने 17 महीने में बीपीएससी की दो बड़ी परीक्षाएं आयोजित करवाई और करीब चार लाख लोगों को नौकरी दी साथ ही अन्य कई और परीक्षाएं भी करवाई लेकिन एक भी पेपर लीक नहीं हुआ और राजग की सरकार आते ही पेपर लीक हो गया। उन्होंने आगे कहा था कि राज्य में राजग शासन के तहत माफिया राज चल रहा है।

हालांकि उप मुख्यमंत्री सम्राट चौधरी ने तेजस्वी यादव को जवाब दिया और कहा कि राज्य में राजद के शासन के दौरान राज्य लोक सेवा आयोग के एक अध्यक्ष को जेल भी जाना पड़ा था। यह राजग की सरकार है राजद की नहीं और आगे उन्होंने कहा कि इओयू मामले में जांच कर रही है जल्दी ही जांच पूरी हो जाएगी और दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा। विदित हो कि बीपीएससी परीक्षा से ठीक पहले बिहार पुलिस और इओयू ने हजारीबाग पुलिस की मदद से हजारीबाग के एक होटल से ढाई सौ से भी अधिक छात्रों को बीपीएससी परीक्षा के प्रश्नों के साथ पकड़ा था।

 

Related Articles

Stay Connected

115,555FansLike
10,900FollowersFollow
314FollowersFollow
187,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles