सुप्रीम कोर्ट में NEET UG पेपर लीक मामले की सुनवाई 18 जुलाई तक टली, जानिए क्यों

NEET UG

NEET UG. सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को राष्ट्रीय पात्रता प्रवेश परीक्षा-अंडरग्रेजुएट (NEET UG) 2024 में कथित पेपर लीक और अनियमितताओं से संबंधित याचिकाओं की सुनवाई 18 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दी है।

सुप्रीम कोर्ट में NEET UG पेपर लीक मामले में सुनवाई

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शीर्ष अदालत ने मामले को इसलिए स्थगित कर दिया, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली तीन-न्यायाधीशों की पीठ ने कहा कि कुछ पक्षों को केंद्र सरकार और राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) द्वारा दायर हलफनामे प्राप्त नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें “अपना आवेदन करने” की आवश्यकता है।

पीठ ने यह भी कहा कि केंद्र और एनटीए ने शीर्ष अदालत के आठ जुलाई के आदेश के अनुपालन में अपने हलफनामे दाखिल किये थे। इससे पहले बुधवार को शीर्ष अदालत द्वारा NEET UG 2024 पेपर लीक मामले में याचिकाओं पर सुनवाई करने और मामले को 11 जुलाई के लिए सूचीबद्ध करने के दो दिन बाद केंद्र सरकार ने अदालत में एक नया हलफनामा दायर किया था।

केंद्र सरकार के हलफनामे के मुताबिक, केंद्र सरकार दोबारा परीक्षा की मांग का दृढ़ता से विरोध करती है। इसमें यह भी दावा किया गया है कि आईआईटी-मद्रास की एक व्यापक रिपोर्ट कुछ चुनिंदा केंद्रों पर व्यापक कदाचार या उम्मीदवारों को अवैध लाभ के आरोपों का खंडन करती है। इसमें कहा गया है कि न तो “सामूहिक कदाचार” का कोई संकेत था और न ही उम्मीदवारों के किसी स्थानीय समूह को लाभ हुआ, जिसके कारण NEET UG 2024 में असामान्य स्कोर आया।

इस बीच, एनटीए ने भी शीर्ष अदालत में एक हलफनामा दायर किया, जिसमें कहा गया है कि अब तक केवल 47 उम्मीदवारों पर पेपर लीक और ओएमआर शीट से संबंधित अनियमितताओं में शामिल होने का संदेह है। इसमें कहा गया है कि वे परीक्षा के संचालन के तरीके को ओएमआर (पेन और पेपर) से बदलकर ऑनलाइन परीक्षण करने के विकल्प पर विचार कर रहे हैं। बता दें कि मामले की जांच कर रही सीबीआई अब तक आठ लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

Share with family and friends: