भारत के स्टील मैन डॉ जेजे ईरानी का निधन

author
0 minutes, 15 seconds Read

Steel Man of India J.J. Irani passes away at 86

JAMSHEDPUR: जेजे ईरानी का निधन – भारत के स्टील मैन जमशेद जे इरानी का निधन

कल देर रात जमशेदपुर स्थित टाटा मेन हॉस्पिटल (Tata Main Hospital) में हो गया.

इसकी सूचना टाटा स्टील प्रबंधन ने दी.

टाटा स्टील की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार

पद्म भूषण डॉ जमशेद जे ईरानी ने सोमवार रात 10 बजे

जमशेदपुर स्थित टीएमएच में उन्होंने अंतिम सांस ली-

डॉ ईरानी चार दशकों से अधिक समय तक टाटा स्टील से जुड़े रहे.

43 साल की विरासत को पीछे छोड़ते हुए वे जून 2011 में

टाटा स्टील के बोर्ड से सेवानिवृत्त हुए, जिससे उन्हें और

कंपनी को विभिन्न क्षेत्रों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिलाई.

 2 जून, 1936 को नागपुर में जिजी ईरानी और खोरशेद ईरानी के

घर जन्मे, डॉ ईरानी ने 1956 में साइंस कॉलेज,

नागपुर से विज्ञान स्नातक की डिग्री और 1958 में

नागपुर विश्वविद्यालय (Nagpur University) से भूविज्ञान में मास्टर ऑफ साइंस (Master of Science in Geology)

की डिग्री पूरी की. इसके बाद वे यूके में यूनिवर्सिटी ऑफ शेफ़ील्ड (University of Sheffield) से

जे एन टाटा स्कॉलर के रूप में पढ़ाई करने गए, जहाँ उन्होंने 1960 में

धातुकर्म में मास्टर्स (Masters in Mettalurgy) और 1963 में धातुकर्म में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की.

जेजे ईरानी का निधन – दूरदर्शी लीडर के रूप में हमेशा याद किये जायेंगे जेजे ईरानी

उन्हें एक दूरदर्शी लीडर के रूप में याद किया जाएगा,

जिन्होंने 1990 के दशक की शुरुआत में भारत के

आर्थिक उदारीकरण (Economic liberalisation) के दौरान टाटा स्टील का नेतृत्व किया

और भारत में इस्पात उद्योग के उन्नति और विकास में अत्यधिक योगदान दिया.

डॉ ईरानी भारत में गुणवत्ता आंदोलन के पहले लीडर थे.

उन्होंने टाटा स्टील (Tata Steel Limited) को गुणवत्ता और ग्राहकों की संतुष्टि (quality and customer satisfaction) पर

ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ दुनिया में सबसे कम लागत

वाला स्टील उत्पादक बनने में सक्षम बनाया,

जो अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धा कर सके.

प्रसिद्ध मैल्कम बाल्ड्रिज परफॉर्मेंस एक्सीलेंस मानदंड

(Renowned Malcolm Baldridge Performance Excellence Criteria) से अपनाए गए

कैलिब्रेटेड दृष्टिकोण के माध्यम से शैक्षणिक गुणवत्ता (academic quality) में सुधार के लिए 2003 में टाटा एजुकेशन

एक्सीलेंस प्रोग्राम (excellence program) शुरू करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। ईरानी के परिवार में उनकी

पत्नी डेज़ी ईरानी और उनके तीन बच्चे, जुबिन, नीलोफ़र ​​और तनाज़ हैं।

Similar Posts