भावविह्वल हो मरीज ने कहा थैंक यू पारस, पारस हॉस्पिटल ने बदल दी जिंदगी

Ranchiलातेहार गोली कांड में घायल मरीजों को पारस हॉस्पिटल, रांची में मिली नयी जिंदगी मिली है. यहां बता दें कि 21 अक्टूबर को आपात स्थिति में तीन घायलों को पारस हॉस्पिटल, रांची में लाया गया था. एक मरीज को छाती में, एक को मसल में, जबकि तीसरे को जांघ में गोली लगी थी. छाती में गोली लगे मरीज की हालत गंभीर थी.

पारस हॉस्पिटल, रांची ने बदल दी मरीजों की जिंदगी

डॉ. (मेजर) रमेश दास (निदेशक-एमआईएस और जनरल सर्जन), एवं डॉ. ओम प्रकाश के अनुसार गोली मरीज के लंग को आर पार करते हुए बहार निकली थी, मरीज की क्रिटिकल स्थिति को देखते हुए चिकित्सकों के द्वारा मरीज का आईसीडी किया गया, इसके तहत पाईप के माध्यम से खून को बाहर निकाला गया, ताकि लंग को एक्सपैंड किया जा सके, जिसके बाद छाती की सर्जरी कर लंग को रिपेयर किया गया.

चिकित्सकों के अनुसार तीन में से दो को पहले ही डिस्चार्ज कर दिया गया था,

जबकि जिसके पीठ में गोली लगी थी, उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई थी,

उसे भी आज डिस्चार्ज कर दिया गया.

अस्पताल से बाहर निकले वक्त मरीज ने अस्पताल का शुक्रिया कहा.

उसने बोला कि मैं सोचा भी नहीं था कि अब स्वस्थ्य होकर वापस जाउंगा.

Similar Posts