38.7 C
Jharkhand
Tuesday, May 21, 2024

Live TV

BPSC PAPER LEAK: EOU की टीम ने किया बड़ा खुलासा, ऐसे प्रश्नपत्र लीक करते थे गिरोह के सदस्य

EOU

पटना: बीपीएससी द्वारा आयोजित शिक्षक भर्ती परीक्षा में पेपर लीक मामले में इओयू ने बड़ा खुलासा किया है और पेपर लीक के मास्टरमाइंड को गिरफ्तार कर लिया है। इओयू ने अपने खुलासे में बताया है कि पेपर लीक का मास्टरमाइंड का बिहार समेत कई राज्यों में पेपर लीक से संबंध है और इसका अंतरराज्यीय गिरोह है। इओयू की तरफ से जारी बयान के अनुसार पेपर लीक में शामिल गिरोह अपने सूत्रों से प्रिंटिंग प्रेस और ट्रांसपोर्टेशन का पता लगा कर फिर प्रश्नपत्र एक जगह से दूसरे जगह ले जाने के क्रम में भी लीक करते थे।

मामले में इओयू की टीम ने ट्रांसपोर्टेशन कंपनी के स्टाफ समेत अन्य सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि बिहार पुलिस सिपाही भर्ती परीक्षा और उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा पेपर लीक में भी इन लोगों का ही हाथ था। इओयू की तरफ से जारी बयान के अनुसार पेपर लीक का मास्टरमाइंड डॉ शिव कुमार उर्फ़ शिव उर्फ़ बिट्टू है और उसका सहकर्मी शुभम मंडल उर्फ़ शिवम मंडल मिलकर इस कांड को अंजाम देते थे। इन दोनों ने वर्ष 2017 में भी नीट यूजी परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक करवाया था।

पुलिस पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि उन लोगों ने पहले प्रश्नपत्र लेकर जाने वाली लॉजिस्टिक कंपनी का पता लगाया और फिर उसके मुंशी को अपने जाल में फंसाया। इस तरह फिर लॉजिस्टिक के मालिक को भी मिलाया और पटना से नवादा जाते वक्त नगरनौसा के बुद्धा फॅमिली रेस्टोरेंट पर पहुंची चालक ने सुनियोजित तरीके से वहां गाड़ी रोक दी।

मास्टरमाइंड शिव अपने अन्य सहयोगियों के साथ वहां पहले से मौजूद थे और फिर विशेष टूल से प्रश्नपत्र की पेटी खोल कर प्रश्नपत्र को स्कैन कर लिया। जिसके बाद वह प्रश्नपत्र उनके गिरोह के अन्य सदस्यों के पास पहुंचा दी गई जहां वे अभ्यर्थियों से उसका उत्तर याद करवा रहे थे। इओयू की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार प्रश्नपत्र लीक करवाने वाली इस गिरोह का हमेशा यही कार्यशैली रही है कि वे प्रिंटिंग प्रेस से लेकर लॉजिस्टिक तक की जानकारी इकट्ठी करते थे और फिर रूपये का लालच देकर पेपर लीक करते थे।

उसके बाद सभी अभ्यर्थियों को कहीं जगह सेफ हाउस में ले जाकर प्रश्नोत्तर याद करवाते थे और फिर वहां से अपने ही कस्टडी में सभी को परीक्षा केंद्र तक पहुंचाते थे। इओयू ने कार्रवाई करते हुए मास्टरमाइंड समेत लॉजिस्टिक्स के स्टाफ, रेस्टोरेंट के मालिक समेत वाहन चालक को भी गिरफ्तार कर लिया है। मामले में अब तक कुल 279 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है जबकि इओयू अभी अनुसंधान में जुटी हुई है और माना जा रहा है कि और भी लोगों की गिरफ्तारी होगी।

पटना से चंदन तिवारी की रिपोर्ट

https://www.youtube.com/@22scopebihar/videos

AURANGABAD में नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, तीन आईईडी बरामद

EOU EOU EOU EOU

EOU

Related Articles

Stay Connected

115,555FansLike
10,900FollowersFollow
314FollowersFollow
187,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles