झारखंड विधानसभा: ध्वनिमत से पास हुआ स्थानीय नीति

झारखंड विधानसभा: ध्वनिमत से पास हुआ स्थानीय नीति

विधानसभा में आरक्षण संबंधी बिल पास

रांची : झारखंड विधानसभा के विशेष सत्र में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आरक्षण संशोधन विधेयक 2022

सदन के पटल पर रखा. जिसके बाद स्थानीयता के लिए 1932 के खतियान को लागू

करने संबंधी बिल को विधानसभा ने ध्वनिमत से पारित कर दिया.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने झारखंड पदों एवं सेवाओं की रिक्तियों में आरक्षण संशोधन विधेयक 2022 विधानसभा में पास हुआ.

हम आपकी तरह बेवकूफ नहीं, आदिवासी अब बोका नहीं रहा- सीएम हेमंत

सीएम हेमंत सोरेन ने विपक्ष को बेवकूफ कहा. उन्होंने कहा कि हम आपके जैसे बेवकूफ नहीं हैं.

आदिवासी अब बोका नहीं रहा. उन्होंने कहा कि यही बोका आपको धो-पोंछकर बाहर फेंक देगा.

आपलोगों की तरह हम बेवकूफी नहीं करेंगे. हम अपने पैर पर कुल्हाड़ी नहीं मारेंगे. बल्कि आपका पर काटने का काम किया.

राज्य की जनता के आंखों में धूल झोंकने का काम कर रही सरकार

बीजेपी विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी ने ओबीसी आरक्षण को लेकर संशोधन पर कहा कि सरकार के इस कदम पर हम सवाल उठा रहे हैं कि इसको सदन में लाने की जरूरत ही नहीं है, सिर्फ राज्य की जनता के आंखों में धूल झोंकने का काम कर रहे हैं. 9वीं अनुसूची में न भेज कर सीधे संकल्प लाते.

सीएम ने कर्नाटक का किया जिक्र

मुख्यमंत्री ने जवाब देते हुए कहा कि रामचंद्र चंद्रवंशी सदन के वरिष्ठ सदस्य हैं. और उन्हें मालूम है कि 9वीं अनुसूची में क्यों भेज रहे हैं. कर्नाटक में इनकी ही सरकार है और वहां भी इसी तरह की समस्या है. लेकिन हम इसे सुरक्षा कवच पहनाने के लिए 9वीं अनुसूची में भेज रहे हैं, ताकि आने वाले दिनों में कोई दिक्कत न हो. 1985 करके इन लोगों ने कितनी नियुक्ति दी, ये किसी से छुपी हुई नहीं है.

लंबोदर महतो के संशोधन पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के सवा तीन करोड़ जनता के मंदिर में आज के दिन भी षड्यंत्र की बू आ रही है.

Similar Posts