पंचायत सचिव अभ्यर्थी गुलाम पुलिस की चलती गाड़ी से गिरे या फेंके गये, देखें वीडियो

0 minutes, 0 seconds Read

पंचायत सचिव अभ्यर्थी गुलाम पुलिस की चलती गाड़ी से गिरे या फेंके गये, देखें वीडियो

रांची : पंचायत सचिव अभ्यर्थी गुलाम पुलिस की चलती गाड़ी से गिरे या फेंके गये- पुराना

विधानसभा से नये विधानसभा तक मनाव श्रृंखला बनाकर पंचायत सचिव के सफल अभ्यर्थी न्याय मार्च निकाला.

इस दौरान पंचायत सचिव के अभ्यर्थियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया.

इस घटना में पंचायत सचिव अभ्यर्थी गुलाम का सिर फट गया और हाथ फ्रैक्चर हो गया.

लेकिन वहां मौजूद पंचायत सचिव के सफल अभ्यर्थियों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि,

गुलाम को पुलिस की चलती गाड़ी से फेंका गया.

उसके बाद उसे नेहरू युवा केंद्र के बगल में एचईसी वेलनेस सेंटर में भर्ती कराया गया.

जहां गुलाम की तबीयत ज्यादा बिगड़ने के बाद उसे रिम्स रेफर कर दिया गया.

फिलहाल गुलाम रिम्स में भर्ती हैं जहां उनका इलाज चल रहा है.

इस घटना में गुलाम के साथ विनीता भी घायल हो गयी थी.

बता दें कि आज झारखंड विधानसभा में बजट पेश किया गया. मंत्री रामेश्वर उरांव ने बजट पेश किया. इससे पहले पंचायत सचिव के सफल अभ्यर्थियों ने मनाव श्रृंखला बनाने का निर्णय लिया था. लेकिन प्रशासन ने पुराना विधानसभा से नये विधानसभा तक धारा 144 लागू कर दिया था जहां किसी को भी जाने की अनुमति नहीं थी.

न्याय मांगते रो पड़े पंचायत सचिव के अभ्यर्थी

पंचायत सचिव के अभ्यर्थियों ने कहा कि गुलाम जिप से गिरे, जिससे उन्हें सर में चोट लगी है. इस दौरान वे न्याय मांगते रो पड़े थे. उन्होंने कहा कि कलम और किताब उठाने की उम्र में हाथों में हमलोग मुख्यमंत्री का पोस्टर उठाए हैं. इससे पहले सभी पंचायत सचिव के अभ्यर्थियों ने पुराना विधानसभा से नये विधानसभा तक मानव श्रृंखला बनाया. लेकिन जिला प्रशासन की ओर से उन्हें यहां पर रहने की अनुमति नहीं दी गयी. उसके बाद पुलिस ने बल का प्रयोग कर उनलोगों को वहां से हटाया.

नियुक्ति की मांग को लेकर कई दिनों से कर रहे हैं आंदोलन

झारखंड पंचायत सचिव व निम्न वर्गीयलिपिक प्रतियोगिता परीक्षा-2017 के सैकड़ों अभ्यर्थी रिजल्ट व नियुक्ति की मांग को लेकर कई दिनों से आंदोलनरत हैं. राज्य सरकार के मंत्रियों ने नियुक्ति के मुद्दे पर सकारात्मक आश्वासन दिया, लेकिन वह आश्वासन अब तक धरातल पर नहीं उतर पाया है. अभ्यर्थियों ने 24 फरवरी को कैबिनेट की बैठक के बाहर मानव शृंखला बनायी थी. उस वक्त मंत्री आलमगीर आलम व बादल पत्रलेख ने अन्य मंत्रियों से बात कर मुख्यमंत्री से भी नियुक्ति के बारे में बात करने की हामी भरी थी. अब 3 मार्च को ये सपरिवार विधानसभा का घेराव करेंगे.

4948 अभ्यर्थियों का डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन

अभ्यर्थियों ने बताया कि मई 2017 में आयोग ने 3088 पदों पर नियुक्ति के लिए पंचायत सचिव तथा निम्नवर्गीय लिपिक का विज्ञापन प्रकाशित किया था. विज्ञापन में दो तरह के नियम थे. एक तरफ 13 अनुसूचित जिले जिसे वहीं के स्थानीय निवासी के लिए शत प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान था, जबकि दूसरी तरफ 11 गैर अनुसूचित जिले व राज्य स्तरीय पदों के लिए पूरे भारत के निवासी फॉर्म भरने के लिए पात्र माने गये थे. लिखित परीक्षा 2018 के जनवरी-फरवरी माह में विभिन्न तिथियों में आयोजित की गयी थी. लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण वैसे सभी अभ्यर्थियों का कंप्यूटर ज्ञान एवं हिंदी टंकण परीक्षा लिया गया था.

रिपोर्ट : करिश्मा सिन्हा

पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारी, पिछड़ों के लिए नहीं होगा आरक्षण

मुंगेर डीएम नवीन कुमार ने बलिया पंचायत का किया निरीक्षण

मरीज के परिजन की शिकायत पर सदर अस्पताल पहुंचे डीएम

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *