30.1 C
Jharkhand
Wednesday, May 22, 2024

Live TV

पुलिस का ये भी रुप, धधकती आग से बच्ची को बचाया और फिर…..

गोड्डाः अकसर पुलिस को लोगों को अपराधियों को पकड़ते हुए देखा है या फिर किसी अपराधी के पीछे या अपराध को रोकते हुए ही देखा होगा मगर आज गोड्डा में पुलिस का एक अलग रुप देखकर सभी की निगाहें खुली की खुली रह गई। आजतक पुलिस का ऐसा रुप शायद ही पहले कभी किसी ने देखा होगा।

ये भी पढ़ें-काम दिलाने के बहाने युवती से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी और जो हुआ….. 

दरअसल मामला यह है कि आज एक घर में अचानक आग लग गई। आग लगने के बाद घर के अंदर एक छोटी बच्ची फंस गई है। जिसके बाद पुलिस वाले राहुल कुमार चौबे ने अपनी जान की परवाह किए बगैर घर के अंदर घुसा और धदकती हुई आग से बच्ची को बाहर निकाला।

जलती हुई घर के अंदर से बच्ची को बाह लाई पुलिस

बताया जा रहा है मेहरमा प्रखंड क्षेत्र के सोनागुजी गांव में एक घर में आग लग गई। आग की लपटें इतनी भयावह थी कि कई घरों को लपेट लेता लेकिन ग्रामीणों की सूझबूझ से एक ही घर जल कर रह गया। आग की खबर मिलते मौके पर पहुंचे बलबड्डा थाना प्रभारी राहुल कुमार चौबे ने धधकते आग में घर के अंदर घुसकर एक बच्ची को बाहर निकाल कर खाकी वर्दी वालों ने मिसाल पेश कर दी।

इस मामले पर थाना प्रभारी राहुल कुमार चौबे ने कहा हमें फोन आया सोनागुजी में आग लग गई है। गांव पहुंचे तो गांव वालों ने एक एंबुलेंस को बुला लिया था। एक महिला चांदनी देवी और उसकी भांजी की स्थिति को देखते हुए एंबुलेंस में बैठाकर अस्पताल भेज दिया गया। इधर घर जल रहा था, गांव वाले पुलिस वालो को कह रहे थे घर के अंदर एक बच्ची फंसी हुई है।

बच्ची का फिलहाल अस्पताल में इलाज चल रहा है

घर में सिलेंडर था। आसपास के लोग घर के अंदर जाने से डर रहे थे। घर में आग लगी थी बच्ची चिल्ला रहीं थी थाना प्रभारी राहुल कुमार चौबे ने अपना मानवता का परिचय देते हुए घर के अंदर घुस गया और बच्चे की जान बचाई। उसे तुरंत अपनी गाड़ी पर बैठकर महागामा अस्पताल ले जाया गया। उसके बाद बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल गोड्डा भेज दिया गया लेकिन गोड्डा से रेफर कर बेहतर इलाज के लिए बोकारो भेज दिया गया।

22Scope News

ये भी पढ़ें-Breaking-रामटहल चौधरी ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा……. 

बच्ची को बचाने के बाद थाना प्रभारी राहुल कुमार चौधरी ने कहा कि का सबसे पहले मेरा मुख्य मकसद था कि उस बच्ची का जान बचाना है। बच्ची जलते हुए घर के अंदर थी। घर पर गैस सिलेंडर भी था इसलिए हमें भी डर लग रहा थाॉ, पर सबसे पहले जो हमारा ड्यूटी था कि उस बच्चे का हर कीमत पर जान बचाना है।

Related Articles

Stay Connected

115,555FansLike
10,900FollowersFollow
314FollowersFollow
187,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles