दीपावली बाद शुरु होती है पशुओं की मौत

कौन है वह गांव, जहां हर वर्ष दीपावली के बड़े पैमाने पर होती है पशुओं की मौत

Bhagalpur-दीपावली बाद पशुओं की मौत- कोइली व खुटहा गांव में हर वर्ष दीपावली के बाद मौत का सिलसिला शुरु हो जाता है, करीबन दस वर्षों से यही होता रहा है, हर बार दीपावली के बाद पशुओं की मौत होती है, उसके बाद पशुपालन विभाग कुछ कर्मचारी गांव का दौरा करते हैं और बात खत्म हो जाती है, लेकिन इसका स्थायी समाधान नहीं होता, मौत की वजहों की तलाश नहीं होती, इसके कारण हर वर्ष पशुपालकों को लाखों रुपये का नुकसान झेलना पड़ता है, इस वर्ष भी यही कहानी दुहरायी जा रही है.

ग्रामीणों ने माने तो अब तक करीबन 50 पशुओं की मौत हो चुकी है, लेकिन इस वर्ष भी इनकी मौत का पता नहीं चल रहा, पशुपालन विभाग की ओर से कोई सुध लेने भी नहीं आता, पशुपालकों को ग्रामीण चिकित्सकों पर विश्वास करना होता है, दूसरा कोई विकल्प भी उनके पास नहीं है.

दीपावली बाद पशुओं की मौत, लेकिन अनजान है पशुपालन विभाग

पशुपालन विभाग के चिकित्सा पदाधिकारी रणधीर कुमार ने बताया कि

हमलोगों को इसकी सूचना पहले नहीं दी गई थी.

इस खबर की जानकारी हमें समाचार पत्रों के माध्यम से मिली,

जिसके बाद तुरंत ही विभाग सक्रिय होगा और मामले की जांच की जा रही है.

जांच रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि बीमारी क्या है.

अगर उसका टीका उपलब्ध होगा तो टीकाकरण करवाया जाएगा.

डॉक्टर रणधीर ने बताया कि अगले वर्ष ऐसा न हो इसके लिए हमलोग पहले से तैयार करेंगे.

लेकिन सवाल आज भी बना हुआ है कि हर वर्ष दीपावली के बाद क्यों होती पशुओं की मौत

रिपोर्ट – अंजनी कुमार कश्यप

Similar Posts