विनोद बिहारी महतो कोयलांचल यूनिवर्सिटी

विनोद बिहारी महतो कोयलांचल यूनिवर्सिटी में आजसू का प्रर्दशन

Dhanbad: विनोद बिहारी महतो कोयलांचल यूनिवर्सिटी में आजसू छात्र संघ के बैनर तले नामांकन संबंधी शिकायतों को लेकर कार्यालय के बाहर प्रदर्शन. बीबीएमकेयू अध्यक्ष विशाल महतो ने बताया कि पीजी के प्रथम नामांकन सूची में ऐसे सैकड़ों छात्रों का नाम आया है, जो अभी बीएड सत्र – 2020-22 में हैं, जिनका कोर्स अभी पूर्ण नहीं हुआ है.

वैसे छात्रों के पास अभी सीएलसी ओर माइग्रेशन प्रमाण पत्र नहीं है. इसके कारण उनका नामांकन नहीं लिया जा रहा है. कुछ दिन पहले ही आजसू की ओर से इस मामले को उठाया गया था. उस समय भी कहा गया था कि ये सभी छात्र इसी विश्वविद्यालय से बीएड कर रहे हैं, अन्य विश्वविद्यालयो में तो बीएड का सत्र पूरा हो चुका है, सिर्फ इसी विश्वविद्यालय में यह समस्या है. इसलिए छात्रों का नामांकन लिया जाए, जैसे ही उनका 4th सेमेस्टर का रिजल्ट जारी होगा, वैसे ही सभी छात्र अपना अपना प्रमाण पत्र जमा कर देंगे. इस मामले में डीएसडब्ल्यू ने सहमति जताते हुए उस समय कहा था कि वैसे छात्रों का नामांकन होना चाहिए बशर्ते उन्हें लिखित अंडरटेकिंग देना होगा.

विनोद बिहारी महतो कोयलांचल यूनिवर्सिटी में छात्रों का बवाल

लेकिन उसके बाद इन छात्रों का नामांकन नहीं लिया गया, इस मामले को लेकर 5 नवंबर को नामांकन सेल की बैठक भी बुलाई गई थी, जिसके द्वारा इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया. जिसके कारण करीबन एक हजार छात्रों के सामने समस्या आ रही है.

इधर छात्रों की कोशिश कुलपति,

प्रति कुलपति एवं डीएसडब्ल्यू से बात करने की थी,

लेकिन छात्रों की बात उनसे नहीं हो सकी.

अब छात्रों के द्वारा विश्वविद्यालय में तालाबंदी करने की तैयारी की जा रही है.

इधर जूलोजी बॉटनी में नामांकन से

वंचित छात्र छात्राओं ने भी आजसू से अपनी शिकायत की है.

छात्रों का कहना है कि चांसलर पोर्टल को जूलॉजी और

बॉटनी के लिए अंतिम तिथि से पूर्व बीच मे ही बंद कर दी गयी थी.

और यह सूचना दी गयी कि बॉटनी जूलॉजी को लाइफ साइंस में मर्ज कर दिया गया है.

इसके बाद छात्रों ने मजबूरन लाइफ साइंस में फॉर्म भरा.

किन्तु अब यह सूचना दी जा रही हैं कि

जिन छात्रों ने बॉटनी एवं जूलॉजी में फॉर्म भर दिया.

उनका सूची जारी किया जाएगा और

लाइफ साइंस में जिन्होंने फॉर्म भरा है

उनका लाइफ साइंस की सूची में नाम आएगा.

Similar Posts