22 C
Jharkhand
Thursday, February 22, 2024

Live TV

इसरो का SSLV-D2 रॉकेट सफलतापूर्वक लॉन्च

आंध्र प्रदेश : इसरो ने आज सबसे छोटे सैटेलाइट एसएसएलवी-डी2 को सफलतापूर्वक लांच किया. एसएसएलवी-डी2 ने अपने साथ तीन सैटेलाइट लेकर अंतरिक्ष की उड़ान भरी, जिसमें अंतारिस की सैटेलाइट Janus-1, स्पेसकिड्ज की सैटेलाइट AzaadiSAT-2 और इसरो की सैटेलाइट EOS-07 शामिल रहीं.
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने आज अपने नए और सबसे छोटे रॉकेट SSLV-D2 (Small Sataellite Launch Vehicle) को अंतरिक्ष में लॉन्च कर दिया. आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर से यह लॉन्चिंग की गई. एसएसएलवी-डी2 ने सफलतापूर्वक तीनों सैटेलाइट्स को पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित कर दिया है.

इसरो


इससे पहले एसएसएलवी-डी2 ने अपने साथ तीन सैटेलाइट लेकर अंतरिक्ष की उड़ान भरी, जिनमें अमेरिकी की कंपनी अंतारिस की सैटेलाइट Janus-1, चेन्नई के स्पेस स्टार्टअप स्पेसकिड्ज की सैटेलाइट AzaadiSAT-2 और इसरो की सैटेलाइट EOS-07 शामिल थी। ये तीनों सैटेलाइट्स 450 किलोमीटर दूर सर्कुलर ऑर्बिट में स्थापित किए गए.


लोअर ऑर्बिट में लॉन्च करने के काम में लाया जाएगा


इसरो के अनुसार, एसएसएलवी 500 किलोग्राम तक की सैटेलाइट को लोअर ऑर्बिट में लॉन्च करने में काम में लाया जाता है। यह रॉकेट ऑन डिमांड के आधार पर किफायती कीमत में सैटेलाइट लॉन्च की सुविधा देता है. 34 मीटर लंबे एसएसएलवी रॉकेट का व्यास 2 मीटर है. इस रॉकेट का वजन 120 टन है.

एसएसएलवी-डी2 का कुल वजन 175.2 किलोग्राम


एसएसएलवी-डी2 का कुल वजन 175.2 किलोग्राम है, जिसमें ईओस सैटेलाइट का वजन 156.3 किलोग्राम, Janus-1 का वजन 10.2 किलोग्राम और AzaadiSat-2 का वजन 8.7 किलोग्राम है। इसरो के अनुसार, एसएसएलवी रॉकेट की लागत करीब 56 करोड़ रुपए है.

इसरो चीफ एस सोमनाथ ने टीमों को दी बधाई

इसरो चीफ एस सोमनाथ ने तीनों सैटेलाइट को ऑर्बिट में सही जगह पहुंचाने के लिए टीमों को बधाई दी. उन्होंने कहा कि एसएसएलवी-डी1 के दौरान जब दिक्कतें आईं, तब उनका विश्लेषण किया और जरूरी कदम उठाए और यह सुनिश्चित किया कि इस बार लॉन्चिंग सफल रहे.

Related Articles

Stay Connected

113,000FansLike
10,900FollowersFollow
314FollowersFollow
154,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles