29.8 C
Jharkhand
Thursday, April 18, 2024

Live TV

दिग्गज टीएमसी नेता तापस रॉय ने तृणमूल कांग्रेस के विधायक पद से दिया इस्तीफा।

दिग्गज टीएमसी नेता Tapas Roy ने तृणमूल कांग्रेस के विधायक पद से दिया इस्तीफा।

टीएमसी विधायक तापस रॉय का इस्तीफा, लोकसभा चुनाव से पहले पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ पार्टी TMC के लिए एक बड़ा झटका है। तापस रॉय बारानगर से टीएमसी के मौजूदा विधायक थे और इस क्षेत्र में उनका व्यापक प्रभाव था।

संक्षेप में :

  • तापस रॉय ने तृणमूल कांग्रेस के विधायक पद से दिया इस्तीफा
  • तापस रॉय अपने इस्तीफे की घोषणा करते हुए टीएमसी में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया
  • तापस रॉय ने कहा “टीएमसी मेरे लिए नहीं है जहां भ्रष्टाचार, अपराध कोई और करे और सजा बाकियों को मिले।

Tapas Roy पश्चिम बंगाल विधानसभा में TMC के उप मुख्य सचेतक के रूप में कार्य किया और उन्हें पार्टी का एक प्रखर प्रवक्ता माना जाता था।

Tapas Roy अपने इस्तीफे की घोषणा करते हुए TMC में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया और कहा कि उन्हें कई तरह के विवादों का सामना करना पड़ रहा है।

Tapas Roy ने अपने भविष्य के कदम का खुलासा नहीं किया है, लेकिन इस बीच, अटकलें लगाई जा रही हैं कि रॉय जल्द ही BJP में शामिल हो सकते हैं और उत्तरी कोलकाता सीट पर मौजूदा TMC सांसद और संसदीय दल के नेता सुदीप बंदोपाध्याय के खिलाफ चुनाव लड़ सकते हैं।

Tapas Roy के इस कदम की आलोचना करते हुए, टीएमसी युवा विंग के महासचिव देबांगशु भट्टाचार्य ने चुटकी ली, “उन्होंने लोकसभा चुनाव की घोषणा होने से सिर्फ 15 दिन पहले पार्टी छोड़ने का फैसला क्यों किया?”

सीपीआई (एम) पोलित ब्यूरो सदस्य सुजन चक्रवर्ती ने कहा, “हालांकि TMC हमारी राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी है, रॉय विनम्र थे। उनके जैसे व्यक्ति का पार्टी छोड़ना दर्शाता है कि TMC अब शेख शाहजहां जैसे ताकतवर लोगों और अपराधियों की पार्टी है और अच्छे राजनेताओं के लिए जगह नहीं है।

Tapas Roy ने कहा “टीएमसी मेरे लिए नहीं है जहां भी मैं देखता हूं, इस पार्टी में भ्रष्टाचार है, यह सही नहीं है कि अपराध कोई और करे और सजा बाकियों को मिले। मुझे कई तरह के विवादों का सामना करना पड़ा और मैं लंबे समय से विधानसभा में भी शामिल नहीं हुआ।

“पार्टी में बहुत भ्रष्टाचार है। संदेशखाली (टीएमसी नेताओं के एक वर्ग के खिलाफ यौन उत्पीड़न और जमीन हड़पने के आरोप) प्रकरण ने भी मुझे बहुत पीड़ा पहुंचाई है,” उन्होंने कहा।

“पिछले 23-24 वर्षों से, मैं TMC के साथ हूं। 12 जनवरी को ED ने मेरे घर छापा मारा, छापेमारी के 52 दिन बाद भी मेरी पार्टी ने एक बार भी मेरा समर्थन नहीं किया, ममता बनर्जी ने मुझे एक बार भी फोन नहीं किया, कोई भी मेरे या मेरे परिवार के साथ खड़ा नहीं हुआ।

Tapas Roy का बयान शिक्षा मंत्री ब्रत्य बसु और टीएमसी राज्य सचिव कुणाल घोष द्वारा रॉय के उत्तरी कोलकाता स्थित आवास का दौरा करने और एक घंटे से अधिक समय तक बैठक करने के बाद आया है। सूत्रों के मुताबिक, वे रॉय को पार्टी छोड़ने से रोकने की कोशिश कर रहे थे।

टीएमसी विधायक Tapas Roy ने लोकसभा चुनाव से पहले सोमवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा अध्यक्ष बिमान बंदोपाध्याय को अपना इस्तीफा सौंप दिया। उत्तरी कोलकाता से तीन बार के विधायक, रॉय ने बारानगर पर अपनी राजनीतिक पकड़ मजबूत करने से पहले विद्यासागर और बुरा बाजार जैसे निर्वाचन क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व किया है, जहां वह 2011 से अपराजित रहे हैं।

तापस रॉय के आवास पर ED ने क्यों मारा छापा?

इस साल जनवरी में, प्रवर्तन निदेशालय ने नागरिक निकायों में कथित भर्ती घोटाले में तापस रॉय और दो अन्य टीएमसी नेताओं के परिसरों पर छापेमारी की थी। संघीय एजेंसी ने कहा कि तलाशी नगर निकायों के भीतर घोटालों से संबंधित थी और संभावित रूप से इसकी राशि ₹200 करोड़ हो सकती है। मूल रूप से स्कूल भर्ती से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच करते समय, ईडी ने अप्रत्याशित रूप से नगरपालिका संस्थाओं के भीतर संदिग्ध अनियमितताओं को उजागर किया।

तापस रॉय के लिए आगे क्या है?

सूत्रों ने दावा किया है कि Tapas Roy जल्द ही BJP में शामिल हो सकते हैं, लेकिन नेता अभी पत्ते छिपाकर रखे हुए हैं. तापस रॉय ने भाजपा में शामिल होने की अपनी योजना के बारे में सीधे सवाल के जवाब में कहा, ”मैं इस बारे में कुछ नहीं कहने जा रहा हूं।”

Related Articles

Stay Connected

115,555FansLike
10,900FollowersFollow
314FollowersFollow
16,171SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles