छात्रावास भवन निर्माण कार्य में अनियमितता, राशी की बंदरबांट का आरोप

0 minutes, 0 seconds Read

मधेपुरा : छात्रावास भवन निर्माण कार्य – मधेपुरा में अनुसूचित जाति कल्याण छात्रावास भवन निर्माण

कार्यों में भारी अनियमितता देखी गई है।

निर्माण कार्यों में लगे संवेदक और भवन निर्माण विभागीय अधिकारी की मिलीभगत के कारण सरकारी राशी की

बंदरबांट किया जा रहा है। मामला मधेपुरा जिले के मुरलीगंज प्रखंड अंतर्गत केपी कॉलेज का है।

बहरहाल जिला लोक शिकायत कार्यालय में मामला लंबित है।

केपी कॉलेज छात्रावास अधीक्षक उच्चस्तरीय जांच की मांग कर रहे हैं।

केपी कॉलेज परिसर में तक़रीबन 25 लाख की लागत से अनुसूचित जाति कल्याण छात्रावास का निर्माण कार्य पिछले

लॉकडाउन से ही चल रहा है। योजना में भारी अनियमितता देखी गई है। हालांकि इस मामले को लेकर

मधेपुरा लोक शिकायत कार्यालय में भी मामला दर्ज की गयी है।

मामले में जिला प्रशासन के द्वारा अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है।

बता दें कि भवन निर्माण कार्यों में गड़बड़ी को लेकर स्थानीय छात्रावास अधीक्षक महेंद्र मुर्मू ने कई बार इस

मामले को लेकर भवन निर्माण विभाग के अधिकारी से शिकायत भी कर चुके हैं।

मामला जिला लोकशिकायत कार्यालय में दर्ज किया गया है।

छात्रावास भवन निर्माण कार्य

छात्रावास के अधीक्षक महेंद्र मुर्मू की माने तो भवन निर्माण कार्यों में कई अनियमिता की शिकायत के

बाद कार्य को रोक दिया गया, लेकिन संवेदक ने लॉकडाउन का फ़ायदा उठा कर निर्माण कार्य लगभग पूरा कर लिया है।

छात्रावास अधीक्षक ने बताया कि हमने कई बार स्टीमेट की भी मांग की,

लेकिन आज तक विभाग व स्थानीय संवेदक स्टीमेट तक नहीं उपलब्ध करवाया।

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कहीं ना कहीं छात्रावास निर्माण में भारी गड़बड़ी की गयी है,

इसकी जांच होनी चाहिए। इस मामले को लेकर मधेपुरा भवन निर्माण प्रमंडल के कार्यपालक

अभियंता आरोप को सरासर बे-बुनियाद और निराधार बताया। उन्होंने कहा कि कहीं से कोई गड़बड़ी नहीं हुई है।

रही बात स्टीमेट की तो मुझे लिख कर दिए होते मैं अब तक स्टीमेट उपलब्ध करवा दिया होता।

वैसे यह मामला अब जिला लोक शिकायत में चल रहा है। जांच के बाद हीं कुछ खुलासा हो पाएगा।

रिपोर्ट: राजीवरंजन

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *