Bihar Jharkhand News
Bihar Jharkhand Latest News | Live TV

पर्यटन स्थल के रूप में विकसित नहीं हो सका बाबा लंगटा मशान

author
0 minutes, 0 seconds Read


PAKUR: पाकुड़ मुख्यालय से लगभग 25 किमी दूर स्थित बाबा लंगटा मशान स्थान के प्रति लोगों की प्रबंल आस्था है. यहां पूजा करने बड़ी संख्या में लोग दूसरे जिलों से भी आते हैं. प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को यहां लोगों की भीड़ होती है. यह स्थान सभी धर्माे के लिए आस्था का केंद्र है. यहां अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए झारखंड ही नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल और बिहार से भी श्रद्धालु पहुंचते हैं.


बाबा लंगटा मशान – प्रसाद के रुप में चढ़ाई जाती है मदिरा

पाकुड़ के लंगटा बाबा मशान स्थित बट वृक्ष के नीचे इस देवस्थान में कई पुरखों से पूजा होती आ रही है. मन्नत मांगने वाले इसी वटवृक्ष में पत्थर बांधकर अपनी मन्नत मांगते हैं. इस देवस्थान में प्रसाद की अन्य सामग्री के साथ मदिरा भी चढ़ाई जाती है. बात पांच वर्ष पहले की करें तो यहां महिलाओं के आने की पाबंदी थी, लेकिन जागरूकता आने के बाद से अब ऐसी कोई रोक नहीं है.

देवस्थान तक पहुंचने के लिए नहीं है पक्की सड़क


देवस्थान तक पहुंचने के लिए अभी तक सड़क नहीं बन पाई है. नहर से करीब 500 मीटर तक श्रद्धालु को खेतों की पगडंडी से होकर जाना पड़ता है. वहीं खेती के समय तो आवाजाही में काफी परेशानी होती है. देवस्थान की कुछ वर्ष पूर्व घेराबंदी की गई है. नलकूप और चापाकल भी लगाया गया है. इस स्थल पर जिला पर्यटन मद से यात्री शेड का निर्माण भी हुआ है. साथ ही वर्ष 2017 में 14वीं वित्त की राशि से देवस्थान परिसर का सौंदर्यीकरण भी हुआ है. लेकिन लोगों की आस्था के अनुरूप इस स्थल का अब तक विकास नहीं हो सका है.

यहां आने वाले सभी श्रद्धालुओं की होती है मनोकामना पूरी


देवस्थान के पुजारी का कहना है कि यहां आने वाले सभी श्रद्धालुओं की मनोकामना पूरी होती है. वहीं श्रद्धालु का भी कहना है कि बाबा लंगटा मसान से जो मन्नत मांगते हैं वह पूरी होती है इसलिए यहां पूजा करने आते हैं. वहीं लोगों का कहना है कि इतना महत्वपूर्ण स्थान होने के बाद भी इसे पर्यटन स्थल के रुप में विकसित नहीं किया गया है.

रिपोर्ट: संजय सिंह

Similar Posts