बेगाना शादी में अब्दुल्ला दिवाना, भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार करेंगे चिराग

Patna- मोदी का हनुमान-लोजपा (रामविलास) प्रमुख चिराग पासवान भले ही फिलवक्त एनडीए का हिस्सा नहीं हो, लेकिन उनके द्वारा गोपालगंज और मोकमा उपचुनाव में एनडीए का प्रचार करने की घोषणा की गयी है. कल ही चिराग पासवान ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी. अमित शाह के मुलाकात के बाद चिराग पासवान ने कहा कि इसके पहले ही नित्यानंद और दूसरे शीर्ष नेताओं से उनकी मुलाकात होती रही है, जल्द ही प्रधानमंत्री के साथ भी उनकी मुलाकात होगी.

मोदी का हनुमान, राजनीतिक चाल या बेबसी

यहां बता दें कि चिराग पासवान गाहे बेगाहे अपने आप को मोदी का हनुमान कहते रहे हैं, पिछले विधान सभा चुनाव के दौरान चिराग पासवान ने एनडीए से अलग चुनाव लड़ा था. हालांकि चिराग को कोई सफलता नहीं मिली थी, लेकिन माना यह जाता है कि इसके कारण जदयू को कई सीटों पर नुकसान उठाना पड़ा था. हालांकि उस समय भी चिराग पासवान पासवान ने कहा था कि वह एनडीए से अलग नहीं है. लेकिन वह नीतीश कुमार के साथ वह चुनाव में साथ नहीं जा सकते. उनके दिल में मोदी बसते हैं, इसके लिए किसी चुनाव चिह्न की जरुरत नहीं है.

रामविलास पासवान और बाबा साहेब की तस्वीर को पैरों तले रौंदा गया

लेकिन जब रामविलास पासवान की मृत्यु के बाद उनका बंगला खाली करवाया गया, तब चिराग पासवान ने अपना दर्द व्यक्त किया था, तब चिराग ने कहा था कि रामविलास पासवान और बाबा साहेब आम्बेडर की तस्वीर को पैरों तले रौंदा गया. चिराग पासवान का सीधा इशारा भाजपा की ओर था, दिल्ली से पटना लौटते ही चिराग ने पटना में अपने समर्थकों का जुटान कर भाजपा को शक्ति दिखलाने की कोशिश की थी, यह साफ तौर पर भाजपा को अपनी ताकत का संकेत देना था, लेकिन एक बार फिर से चिराग के द्वारा भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार करने की घोषणा की है.

एनडीए के साथ जाना चिराग की मजबूरी-

माना जाता है कि चिराग पासवान की यह पूरी कवायद उनकी राजनीतिक मजबूरी का नतीजा है,

जिस प्रकार से उनके द्वारा नीतीश कुमार पर हमले किये गयें है,

विधान सभा चुनाव में जदयू को कमजोर करने की कोशिश की गई है,

उसके बाद नीतीश कुमार के साथ उनका जाना मुश्किल है,

अब उनके सामने एक ही रास्ता बचता है और वह है एनडीए का.

यदि एनडीए से भी संबंध खराब कर लिया गया तो वह पूरी तरह से हाशिये पर ढकेल दिये जायेंगे,

शायद इसी राजनीतिक विवशता में उन्हे बेगाने शादी में अब्दुल्ला दिवाना बनना पड़ रहा है.

भगवान भास्कर की नगरी देव में उमड़ा जनसैलाब,10 लाख से उपर जुटे श्रद्धालु

भगवान भास्कर की नगरी देव में उमड़ा जनसैलाब,10 लाख से उपर जुटे श्रद्धालु

Similar Posts